ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
टिकट में किसी की मदद नहीं कर पायेंगे विजयवर्गीय

MPNEWSLIVE : 26 अक्‍टूबर, 2013
इंदौर।। हमेशा विवादास्‍पद बयान देने वाले शिवराज सरकार के कैबिनेट मंत्री कैलाश विजयवर्गीय लगातार भाजपा में कमजोर हो रहे हैं। मालवा की राजनीति में उनके विरोधियों ने मोर्चा खोल लिया है, वे बार-बार अपने बयान बदल रहे हैं, जिसके चलते पार्टी भी तय नहीं कर पा रही है कि इनको टिकट कहा से दिया जाये। विजयवर्गीय महू के स्‍थान पर इंदौर-2 से लड़ना चाहते हैं इसके लिए पार्टी तैयार नहीं है।

कहां गये उग्र तेवर :

         अभी एक महीने पहले तक उद्योग मंत्री कैलाश विजयवर्गीय शान से इंदौर में कहा करते थे कि पार्टी उन्‍हें किसी के खिलाफ भी चुनाव मैदान में उतार सकती है और वे चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं। यहां तक कि उन्‍होंने कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के मुखिया ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया को धमकी दी थी कि वह गुना से चुनाव लड़ने को तैयार है यदि पार्टी चाहे तो। इसके बाद उन्‍होंने उज्‍जैन जिले से भी चुनाव लड़ने की इच्‍छा जाहिर कर चुके हैं। विजयवर्गीय वर्तमान में महू से विधायक है, लेकिन महू में उनके विरोधियों ने मोर्चा खोल रखा है। यहां तक कि कांग्रेस उम्‍मीदवार अंतर सिंह दरवार ने विजयवर्गीय की नींद उड़ा रखी है। यही वजह है कि विजयवर्गीय अब महू के स्‍थान पर इंदौर-2 से चुनाव लड़ना चाहते हैं, जहां से अभी रमेश मंदौला विधायक हैं।

भाजपा कार्यालय में पीड़ा सामने आ गई :

          25 अक्‍टूबर को विजयवर्गीय प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचे, जहां उन्‍हें पार्टी कार्यकर्ताओं ने घेर लिया। इसके बाद तो विजयवर्गीय का दर्द चेहरे पर आ ही गया। जब कार्यकर्ताओं ने उनसे मदद मांगी, तो उन्‍होंने कहा कि जब मेरी ही टिकट पक्‍की नहीं है, तो फिर दूसरे को टिकट कैसे दिला सकते हैं। विजयवर्गीय के इस बयान के बाद कार्यकर्ताओं ने कन्‍नी काट ली। इससे साबित हो गया है कि विजयवर्गीय को फिर से पार्टी संगठन में अपनी अहमियत पता लग गई है।

इंदौर की राजनीति और विजयवर्गीय :

       इन दिनों विधानसभा चुनाव में इंदौर की राजनीति भाजपा पर छाई हुई है। यहां पर सांसद सुमित्रा महाजन अपने गुणा-भाग के हिसाब से टिकट वितरण कराना चाहती हैं, जबकि विजयवर्गीय अपने गुणा-भाग से टिकट बांटना चाहते हैं। इंदौर की सीटों को लेकर खूब घमासान हो रहा है, जो कि थमने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार भाजपा विरोध का सामना कर रही है। मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा अध्‍यक्ष नरेंद्र सिंह तोमर इंदौर के नेताओं से संवाद बनाये हुए हैं, लेकिन तब भी विरोध थम नहीं पा रहा है।


 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com