ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
आयोग के लिए भी चुनौतियां छोड़ गया चुनाव

MPNEWSLIVE :  मई 12, 2014

लोकसभा चुनाव-2014 तो खत्म हो गया, लेकिन पिछले कई वर्षो से बेदाग रहे चुनाव आयोग (ईसी) पर भी छींटें छोड़ गया। शायद ही कोई बड़ा राजनीतिक दल हो जिसने आयोग की मंशा और कामकाज पर सवाल न खड़े किए हों। लगभग खत्म हो चुके फर्जी मतदान को लेकर भी शिकायतों ने आयोग का पाला नहीं छोड़ा, तो लाख दावों के बावजूद ऐसे लोगों की भी कमी नही रही जिन्हें वोट देने से वंचित कर दिया गया। कुल मिलाकर आयोग के सामने भी लोकसभा चुनाव कुछ चुनौतियां छोड़ गया।

चुनाव आयोग ने नौ चरण में मतदान कराने का फैसला लेकर यह तो सुनिश्चित कर लिया कि सुरक्षा पर आंच न आए। इसमें वह सफल भी रहा, लेकिन कामकाज और नियंत्रण कई बार डगमगाता दिखा। दरअसल, आयोग अपने कुछ फैसलों को लेकर ही सवालों के कठघरे मे आ गया। भाजपा के प्रधानमंत्री उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के मतदान परिसर में चुनाव चिह्न दिखाने पर एफआइआर तो दर्ज करा दी, लेकिन कुछ दिन बाद ही कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के मतदान केंद्र मे ईवीएम तक जाने पर आयोग ने चुप्पी साध ली। बाद में राहुल को जवाब के लिए और तीन दिन का वक्त दे दिया। वाराणसी में नरेंद्र मोदी की रैली को अनुमति न देने के मामले में भी चुनाव आयोग और उनके प्रतिनिधि स्थानीय डीएम निशाने पर आए, तो वहां विशेष पर्यवेक्षक नियुक्त करना पड़ा। इसी क्रम मे आयोग के निर्देशों को अगूंठा दिखाते हुए सपा के मंत्री आजम खान ने उन्हें चुनौती दे डाली, तो आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी धार्मिक आधार पर वोट मांगने के आरोप का जवाब देने की बजाय यह आरोप लगाने में देर नहीं लगाई कि आयोग शुतरमुर्गी तरीके से काम कर रहा है। आखिरी दिन एक बयान जारी कर आप ने कहा कि मतदान के वक्त भी मोदी का संदेश जारी हो रहा है और आयोग कुछ भी करने में अक्षम है। कांग्रेस ने भी औपचारिक रूप से शिकायत दर्ज कराई।

 



 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com