ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा कौशल विकास की शिक्षा देने वाले देश के पहले विश्वविद्यालय का इंदौर में भूमि-पूजन

MPNEWSLIVE : 7 jun, 2014 

भोपाल ।। 

 मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर में कौशल विकास के क्षेत्र में शिक्षा देने वाले देश के पहले विश्वविद्यालय का भूमि-पूजन किया। सिम्बायोसिस यूनिवर्सिटी ऑफ अप्लाइड साइंसेस के नाम से संचालित होने वाले इस विश्वविद्यालय में शैक्षणिक कार्य वर्ष 2016 से प्रारंभ होगा। विश्वविद्यालय द्वारा 5 वर्ष में 5000 विद्यार्थी को कौशल विकास की शिक्षा देने का लक्ष्य रखा गया है। विश्वविद्यालय के निर्माण पर प्रथम चरण में 150 करोड़ रुपये खर्च किये जायेंगे।

           मुख्यमंत्री ने कहा कि सिम्बायोसिस द्वारा संचालित होने वाले इस विश्वविद्यालय से देश की अलग पहचान विश्व में स्थापित होगी। उन्होंने कहा कि इंदौर में आगामी 8-9 अक्टूबर को होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में शिक्षा, स्वास्थ्य और पर्यटन विकास से संबंधित विषयों को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जायेगी।  चौहान ने कहा कि प्रदेश में 16 जून से स्कूल चलें हम अभियान प्रारंभ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बच्चों को समुचित शिक्षा दिलाकर एक सुयोग्य नागरिक बनाया जायेगा। युवाओं के लिये शिक्षा के माध्यम से रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाये जायेंगे।
         चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश की विकास दर 11.25 प्रतिशत हो गई है, जो कि अपने आप में एक रिकार्ड है। उन्होंने यह भी बताया कि कृषि विकास दर बढ़कर 24.99 प्रतिशत हो गई है, जो देश में सर्वाधिक है।  चौहान ने परिसर में पौध-रोपण भी किया।
             सिम्बायोसिस फाउण्डेशन की उपाध्यक्ष डॉ. स्वाती मजूमदार ने बताया कि विश्वविद्यालय का निर्माण 2-3 माह में शुरू हो जायेगा। उन्होंने बताया कि पहले चरण में ऑटो-मोबाइल, कन्सट्रक्शन, मेन्यूफेक्चरिंग, रिटेल, बैंकिंग, फायनेंस एवं आई.टी. के क्षेत्र में डिग्री दी जायेगी। दूसरे चरण में फार्मास्युटिकल, टेक्सटाइल, हेल्थ-केयर और बॉयो-मेडिकल साइंसेस के क्षेत्र में विश्वविद्यालय डिग्री देगा। उद्योगों की आवश्यकतानुसार कुशल युवा तैयार करने वाले डिग्री पाठ्यक्रम प्रारंभ किये जायेंगे। स्नातक, स्नातकोत्तर तथा लघु अवधि पाठ्यक्रम प्रारंभ करने के साथ ही रिसर्च का कार्य भी किया जायेगा।
          इस मौके पर बताया गया कि सिम्बायोसिस का मतलब है 'परस्पर हित-लाभ के लिये एक साथ रहना''। सन् 1971 में शिक्षाविशारद पद्मभूषण डॉ. शांताराम बलवंत मजूमदार ने विदेशी छात्रों को घर से दूर घर जैसी अनुभूति देने के प्रयोजन से सिम्बायोसिस विद्या संस्थान की नींव रखी। पुणे, बैंगलुरु, हैदराबाद, नोएडा जैसे 17 परिसर में 30 हजार से अधिक छात्र, जिनमें 80 देश के छात्र सम्मिलित हैं, विभिन्न संकाय में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त दूरस्थ शिक्षा कार्यक्रमों द्वारा सिम्बायोसिस विविध विषय जैसे प्रबंधन, विधि, आई.टी. अभियांत्रिकी, शिक्षा-शास्त्र, स्वास्थ्य विज्ञान, दूरसंचार, शिक्षा, मानविकी और सामाजिक विज्ञान में शिक्षा दी जा रही है। सिम्बायोसिस की गणना उत्कृष्ट विश्वविद्यालयों में की जाती है।
       इस मौके पर नगरीय प्रशासन मंत्री  कैलाश विजयवर्गीय, सिम्बायोसिस के संस्थापक अध्यक्ष  एस.बी. मजूमदार, विधायकगण, अन्य जन-प्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com