ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
कुपोषण से मुक्ति के लिये समाज का विश्वास अर्जित करें

MPNEWSLIVE :14 जून , 2014 

भोपाल ।।  महिला-बाल विकास मंत्री  माया सिंह ने कुपोषण से मुक्त मध्यप्रदेश बनाने के लिये समाज का विश्वास अर्जित करने का आव्हान किया है।  सिंह आज मध्यप्रदेश महिला-बाल विकास संविदा सर्व-पर्यवेक्षक संघ के प्रांतीय सम्मेलन को संबोधित कर रही थीं। इस अवसर पर सांसद आलोक संजर और विधायक श्री विश्वास सारंग उपस्थित थे।

      माया सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश को कुपोषण से मुक्त कर सुपोषण की ओर ले जाने की बड़ी चुनौती को स्वीकार कर व्यापक अभियान पूरे प्रदेश में चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस अभियान की सफलता में विभाग के मैदानी अमले के साथ ही समाज की भी महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि सुपोषण अभियान के परिणाम सुखद हैं और इसके लिये पर्यवेक्षक और आँगनवाड़ी कार्यकर्ता बधाई के पात्र हैं।
      सिंह ने कहा कि कुपोषण को समाप्त करने के लिये हमें कई स्तर पर रणनीतिक तौर पर काम करने की जरूरत है। उन्होंने कुपोषण के कार्यों को जानने के साथ ही उनके परिवारों में जागरूकता लाने की जरूरत बताई। उन्होंने स्वास्थ्य, ग्रामीण एवं पंचायत विभाग के समन्वय की आवश्यकता बताते हुए कहा कि समन्वित प्रयासों से ही हम इस बड़ी समस्या का समाधान निकाल सकते हैं। महिला-बाल विकास मंत्री ने कहा कि सिर्फ बच्चे को कुपोषण से मुक्त और सुपोषित कर हमें अपने कामों की इतिश्री नहीं समझना चाहिये, बल्कि वह आगे कुपोषित न हो और कुपोषण का विस्तार न हो, इस दिशा में भी हमें बेहतर ढंग से काम करना होगा।
         महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती सिंह ने कहा कि महिला-बाल विकास के मैदानी अमले की समस्याओं से वे अवगत हैं। उन्हें यह भी पता है कि किन विपरीत परिस्थिति में यह अमला काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि उनका प्रयास होगा कि काम करने वालों को बेहतर संसाधन और अच्छा वातावरण भी मिले। इस दिशा में गंभीरता के साथ उन समस्याओं पर विचार करेंगी, जिनसे विभाग का मैदानी अमला जूझ रहा है। उन्होंने पर्यवेक्षकों से कहा कि वे 16 जून से प्रारंभ होने वाले 'स्कूल चलें हम अभियान'' में सक्रिय भूमिका निभाएँ और शिक्षित प्रदेश बनाने का गौरव हासिल करें।
निर्मल भारत की राज्य सलाहकार सुश्री आस्था सिंघई, निगम-मण्डल कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष अजय श्रीवास्तव 'नीलू', मध्यप्रदेश संविदा कर्मचारी-अधिकारी महासंघ के अध्यक्ष श्री रमेश राठौर एवं मध्यप्रदेश महिला-बाल विकास संविदा सर्व-पर्यवेक्षक संघ की अध्यक्ष सुश्री नाहिद जहाँ ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com