ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
मध्यप्रदेश भारत के अग्रणी कृषि उत्पादक राज्यों से भी आगे हुआ

MPNEWSLIVE : 27 जून , 2014 

भोपाल ।।  राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि उन्नत कृषि तकनीकें अपनाने के बाद मध्यप्रदेश भारत के अग्रणी कृषि उत्पादक राज्यों से भी आगे खड़ा हो गया है। उन्होंने जबलपुर स्थित जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय सहित कृषि क्षेत्र में अनुसंधान की नई ऊँचाइयाँ छूने वाले शिक्षा संस्थानों के योगदान को भी सराहा। राष्ट्रपति आज जबलपुर में जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के स्वर्ण जयंती दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। समारोह की अध्यक्षता राज्यपाल रामनरेश यादव ने की। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विशिष्ट अतिथि थे।

        राष्ट्रपति ने अपने दीक्षांत उदबोधन में देश के विकास में तेजी लाने के लिए कृषि क्षेत्र के विकास और विस्तार संबंधी कार्यक्रमों और योजनाओं को बढ़ावा देने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि गरीबीभूखबेरोजगारी जैसी समस्याओं के निराकरण के लिए कृषि क्षेत्र के विकास को बढ़ावा दिया जाना समय की मांग है। मुखर्जी ने कहा कि कृषि क्षेत्र के बहुआयामी विस्तार की संभावनाओं का दोहन कर रोजगार और विकास को नई दिशा दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि उन्नत खाद, बीजकृषि यंत्रों और तकनीक के कारण आज देश में पर्याप्त अनाज उत्पादन हो रहा है। उन्होंने जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय सहित कृषि क्षेत्र में अनुसंधान की नई ऊँचाइयाँ छूने वाले शिक्षा संस्थानों के योगदान की सराहना की। राष्ट्रपति ने कहा कि उन्नत कृषि तकनीकें अपनाने के बाद मध्यप्रदेशभारत के अग्रणी कृषि उत्पादक राज्यों में भी आगे खड़ा हो गया है।
       राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि कृषि विश्वविद्यालयों का देश में कृषि विकास और आम आदमी के कल्याण में महत्वपूर्ण योगदान है। कृषि क्षेत्र की उन्नति और कुशल कृषि प्रबंधन के लिए गुणवत्तायुक्त कृषि शिक्षा आवश्यक है। मेधावी छात्रों में कृषि व्यवसाय के प्रति रूचि पैदा हो और शाला स्तर से ही इसके लिए प्रयास किए जाने चाहिए।
       राज्यपाल रामनरेश यादव ने कहा कि हमें ऐसे युवा तैयार करने होंगे जो कृषि को लाभकारी व्यवसाय बनाने में कृषकों का सहयोग कर सकें। कृषि में उच्च शिक्षा के लिए सकल प्रवेश अनुपात अन्य विषयों की तुलना में अभी न्यूनतम हैइसे बढ़ाने की जरूरत है। इसके लिए प्रदेश में आवश्यकता आधारित नवीन कृषि महाविद्यालय स्थापित करने होंगेसाथ ही शाला स्तर पर भी कृषि विषय को और व्यापक बनाना होगा।
       यादव ने कहा कि बीज उत्पादन, संवर्धन एवं प्रचार के लिये अपनी प्रतिबद्धता के परिणामस्वरूप विश्वविद्यालय समूचे राष्ट्र की प्रजनक बीज आवश्यकता की सर्वाधिक पूर्ति करते हुए देश में प्रजनक बीज उत्पादन में प्रथम स्थान पर है। अधिक उपज देने वाली तथा रोग प्रतिरोधक 238 प्रजातियाँ विकसित करने का कीर्तिमान भी इस विश्वविद्यालय ने स्थापित किया है। मध्यप्रदेश को भारत का सोयाबीन राज्य बनाने में इस विश्वविद्यालय की भूमिका अत्यंत सराहनीय है।

 

 

       आज मध्यप्रदेश तिलहनदलहनसोयाबीनचने तथा लहसुन के उत्पादन में अग्रणी है। इन्हीं सफलताओं के साथ-साथ विगत वर्षो में जहाँ प्रदेश में गेंहूँ का रिकार्ड उत्पादन हुआ है
        यादव ने कहा कि कृषि विश्वविद्यालय के प्राध्यापककृषि वैज्ञानिक एवं विद्यार्थी मिल-जुल कर ऐसे प्रयास करें कि मध्यप्रदेश के कृषि विश्वविद्यालय एशिया के सर्वश्रेष्ठ 100 विश्वविद्यालय में अग्रणी स्थान बनाए। उन्होंने विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि वे नैतिकता और चरित्र को प्राथमिकता देंइसी से देश और प्रदेश आगे बढ़ेगा।
        मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश की कृषि विकास दर 24.99 प्रतिशत प्राप्त कर दूसरी बार कृषि कर्मण पुरस्कार हासिल किया गया है। देश की कृषि विकास दर लगभग से प्रतिशत के बीच है। शायद मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है जिसने लगातार कृषि विकास दर में वृद्धि प्राप्त की है। यदि कृषि वैज्ञानिक और कृषि से जुड़े अधिकारीशोधार्थियों का सहयोग रहा तो हम देश में प्रथम स्थान प्राप्त करने में पीछे नहीं रहेंगे। उन्होंने दीक्षांत समारोह में उपाधि प्राप्त करने वाले शोधार्थियों एवं छात्र-छात्रा को उच्चतर अध्ययन के लिए शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि वे अपनी उपाधि का सार्थक उपयोग करें।

       मुख्यमंत्री ने प्रदेश शासन की उपलब्धियाँ बताते हुए कहा कि लगातार नयी तकनीक के माध्यम से कृषि उत्पादन बढ़ा है। प्रदेश में नदी जोड़ने का कार्य प्रारंभ कर सिंचाई क्षमता बढ़ाने के प्रयास भी प्रारंभ कर दिए गए हैं। हमारा सपना है कि कृषि उत्पादन में प्रदेश अग्रणी बनें। उन्नत बीज उत्पादन का कार्य भी कृषि विश्व विद्यालयों के माध्यम से चालू है। प्रदेश के कृषि वैज्ञानिकों ने उन्नत बीज उत्पादन एवं उन्नत कृषि तकनीक के क्षेत्र में अच्छा कार्य किया है। बदलते मौसम एवं परिस्थितियों को देखते हुए जो भी अनुसंधान किए जायेंगे उसके लिए प्रदेश सरकार हर संभव सहयोग करेगी। उपाधिधारक अनुसंधानकर्त्ता अपनी दक्षता का देशहित में सदुपयोग करते रहें।

       प्रारंभ में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोविजय सिंह तोमर ने स्वागत भाषण दिया और प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

     समारोह में पूर्व राष्ट्रपति डॉ ए.पी.जेअब्दुल कलाम और प्रख्यात कृषि वैज्ञानिक एवं भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के पूर्व महानिदेशक डॉ एम.एसस्वामीनाथन को उनकी अनुपस्थिति में डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधि से विभूषित करने की घोषणा की गई।

       समारोह में राष्ट्रपति ने छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदकों से अलंकृत किया। राज्यपाल एवं कुलाधिपति ने विभिन्न छात्र-छात्राओं को पीएचडी उपाधि प्रदान की। समारोह में 18 छात्र-छात्रा को 22 स्वर्ण पदक से अंलकृत किया गया, 23 छात्र को पीएचडी उपाधि तथा 2 छात्र को नकद पुरस्कार भी प्रदान किए गये। समारोह में 643 विद्यार्थी को स्नातक और 481 को स्नातकोत्तर की उपाधि भी प्रदान की गई।

        समारोह में विद्यार्थियों को अपनी विद्या का उपयोग सर्वजन हितायसर्वजन सुखाय के लिए करने की शपथ दिलाई गई।

      इस अवसर पर किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री गौरीशंकर बिसेनपरिवार कल्याण राज्यमंत्री शरद जैन सांसद राकेश सिंहविधायक अंचल सोनकरअशोक रोहाणीमध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीशगणसेना सहित केंद्र एवं राज्य शासन के वरिष्ठ अधिकारीगणमान्य नागरिकजनप्रतिनिधि प्रशासनिक अधिकारी, पुलिस अधिकारीविश्वविद्यालय के अधिकारी-कर्मचारी और छात्र-छात्राएँ उपस्थित थे।



 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com