ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
बीमारी सहायता निधि के प्रकरण जिलों से सीधे विशेषज्ञ अस्पतालों में भेजे जा सकेंगे

MPNEWSLIVE :30 अगस्त , 2014 

भोपाल ।। मध्यप्रदेश राज्य बीमारी सहायता निधि के अंतर्गत गरीब मरीजों को गंभीर बीमारियों के विशेषज्ञ इलाज के लिये जिलों से सीधे मान्यता प्राप्त निजी अस्पतालों में भेजा जा सकेगा। इसके लिये अनापत्ति प्रमाण-पत्र लेने की बाध्यता नहीं होगी। गरीब मरीज अपनी पसंद के निजी मान्यता प्राप्त अस्पताल में इलाज करा सकेंगे। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने इस आशय के आदेश जारी कर दिये हैं।

         चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय में राज्य बीमारी सहायता निधि में स्वीकृत होने वाले प्रकरणों की प्रक्रिया और नियमों को सरल बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जटिल नियम-प्रक्रियाओं से गरीब मरीजों को इलाज में परेशानी नहीं आना चाहिये। उन्होंने गंभीर बीमारियों के विशेषज्ञ इलाज की सुविधा वाले अस्पतालों को जोड़ने के निर्देश दिये। उन्होंने किडनी प्रत्यारोपण के लिये दी जाने वाली सहायता राशि को बढ़ाने के संबंध में भी प्रस्ताव रखने को कहा। उन्होंने कहा कि एक ही परिवार के दो लोग को सहायता निधि का लाभ देने पर भी विचार करना जरूरी है।
         उल्लेखनीय है कि सरल नियमों के अंतर्गत अब जिला कलेक्टर और जिला स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी गंभीर बीमारी के विशेषज्ञ इलाज के लिये सीधे मान्यता प्राप्त निजी अस्पताल में प्रकरण भेज सकते हैं। इसके लिये संभागीय मेडिकल कॉलेज-अस्पताल से अनापत्ति प्रमाण-पत्र लाने की बाध्यता नहीं होगी।
         उल्लेखनीय है कि राज्य बीमारी सहायता निधि की शुरूआत वर्ष 1997 से हुई थी। इसमें 20 गंभीर बीमारी के लिये 25 हजार से 2 लाख रूपये तक आर्थिक सहायता गरीब मरीजों को दी जाती है। राशि का चेक सीधे अस्पतालों को दिया जाता है। समीक्षा बैठक में मुख्य सचिव अंटोनी डिसा, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य प्रवीर कृष्ण, मुख्यमंत्री के सचिव विवेक अग्रवाल एवं वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com