ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
एक दशक में 322 नयी निजी-शासकीय आईटीआई स्थापित

MPNEWSLIVE :20 सितम्बर , 2014 

भोपाल ।।

प्रदेश में तेजी से औद्योगिकीकरण के चलते स्थापित होने वाले उद्योगों को तकनीकी रूप से प्रशिक्षित मेनपावर तैयार करने को राज्य सरकार ने सर्वोच्च प्राथमिकताओं में रखा है। इस काम को बेहतर अंजाम देने व्यवसायिक शिक्षा एवं प्रशिक्षण परिषद् की स्थापना की गई है। साथ ही युवाओं के बेहतर कौशल उन्नयन के लिये अकेले पिछले एक दशक में 322 शासकीय और निजी आई.टी.आई. स्थापित की गई हैं। वर्ष 2003 में इनकी संख्या महज 177 थीं।

135 कौशल विकास केन्द्र भी स्थापित

युवाओं को आधुनिक उद्योगों की जरूरत के मुताबिक प्रशिक्षण के लिये अभी तक प्रदेश में 135 कौशल विकास केन्द्र की स्थापना की गई है। इन केन्द्रों पर 23 अलग-अलग विषय पर प्रशिक्षण दिया जाता है। प्रत्येक केन्द्र में 4 विषय पर प्रशिक्षण दिया जाता है जिसके पूर्ण होने पर छात्रवृत्ति भी दी जाती है।

आई.टी.आई. प्रवेश क्षमता चार गुना बढी

राज्य सरकार ने आई.टी.आई. की संख्या बढ़ाने को भी तवज्जो दी है। वर्ष 2003 में 151 शासकीय आई.टी.आई. तथा 26 निजी आई.टी.आई. थी। वर्ष 2014 में यह बढ़कर क्रमश: 187 और 312 हो गई है। वर्ष 2014 में आई.टी.आई. की प्रवेश क्षमता वर्ष 2003 की तुलना में 15 हजार 157 से बढ़कर 61 हजार 982 हो गई है। अगस्त 2014 से 36 संस्था में 65 ट्रेड यूनिट प्रारंभ की गई, जिनमें 1816 सीट की वृद्धि हुई। इनमें टर्नर, मशीनिष्ट, मल्टीमीडिया, एनिमेशन एण्ड स्पेशल इफेक्टस, कम्प्यूटर ऑपरेटर एण्ड प्रोग्रामिंग असिस्टेंट, कम्प्यूटर हार्डवेयर, हॉस्पि‍टिलेटी हाउसकीपिंग, मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव, आर्किटेक्ट असिस्टेंट आदि शामिल है। आई.टी.आई. के सभी ट्रेडस में एम्प्लायबिलिटी स्किल नाम से प्रशिक्षण कार्यक्रम सम्मिलित किया जायेगा। उद्योगों की आवश्यकता के अनुरूप कुछ प्रायवेट इंजीनियरिंग कॉलेजों में पॉलीटेक्नीक तथा आई.टी.आई. कोर्स को पढ़ाने के लिये प्रोत्साहित किया जा रहा है।

5 साल में 265 उच्च शिक्षा संस्थान स्थापित

मध्यप्रदेश में पिछले 5 साल में 70 नयी तकनीकी संस्थाओं, 30 मेडिकल कॉलेज तथा 165 पेरा मेडिकल कॉलेज स्थापित किये गये। बी.ई., एम.सी.ए., फार्मा तथा इंजीनियरिंग में वर्ष 2007 की 43 हजार प्रवेश क्षमता वर्ष 2014 में बढ़कर डेढ़ लाख हो गई है। प्रदेश में मुख्य रूप से इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेनेजमेंट, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मेनिट, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फेशन टेक्नोलॉजी, स्कूल ऑफ प्लानिंग एण्ड आर्किटेक्चर, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंफर्मेशन टेक्नोलॉजी, डिजाइन एण्ड मेन्युफेक्चरिंग, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंफर्मेशन टेक्नोलॉजी एण्ड मेनेजमेंट जैसी मुख्य संस्थाएँ संचालित हैं। इसके अतिरिक्त 20 विश्वविद्यालय मध्यप्रदेश में स्थापित होंगे। इनमें सिमबयोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी तथा नारसी मोनजी यूनिवर्सिटी शामिल है। इंदौर में सिमबयोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी का शिलान्यास भी हो चुका है।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com