ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
मध्यप्रदेश में निवेशकों को जारी सुविधाएँ एक ही जगह मिलेंगी

MPNEWSLIVE :23 सितम्बर , 2014 

भोपाल ।। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में निवेशकों को सारी सुविधाएँ एक ही स्थान पर उपलब्ध करवाने के लिये सही अर्थों में एकल खिड़की व्यवस्था शुरू की गई है। उद्योग नीति तथा अन्य सेक्टरों की नीतियों में जरूरत के मुताबिक बदलाव और संशोधन लगातार किये जा रहे हैं। इससे प्रदेश में उद्यमियों को काम करने में बहुत आसानी होगी। कोई भी निवेशक और उद्यमी राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई सीएम हेल्पलाइन 181 पर भी अपनी समस्या बताकर उसका निराकरण करवा सकता है।

      मुख्यमंत्री चौहान आज मुम्बई में सीआईआई की नेशनल काउंसलिंग की बैठक में उद्योगपतियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने उद्योगपतियों के साथ निवेश संभावनाओं तथा प्रदेश में दी जा रही सुविधाओं पर चर्चा की और उनके सुझाव भी लिये। इस अवसर पर उद्योग मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया, मुख्य सचिव अन्टोनी डिसा, प्रमुख सचिव उद्योग मोहम्मद सुलेमान और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव एस.के. मिश्रा भी उपस्थित थे।
        मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में बीते वर्षों में सड़क, बिजली और पानी सहित औद्योगिक अधोसंरचना के विकास पर विशेष रूप से कार्य किया है। प्रदेश में पीपीपी की अवधारणा को सफलता से लागू किया गया है। सड़क और बिजली के क्षेत्र में पीपीपी के जरिये अच्छा काम हो रहा है। अब नवकरणीय ऊर्जा के विकास पर जोर दिया गया है और प्रदेश में 4000 मेगावॉट नवकरणीय ऊर्जा उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि चंबल के बीहड़ों को पीपीपी के आधार पर विकसित करने के प्रयास किये जा रहे हैं।
     चौहान ने कहा कि बीते 10 साल में मध्यप्रदेश में कृषि का अभूतपूर्व विकास हुआ है और इस वर्ष प्रदेश की कृषि विकास दर 24.99 प्रतिशत रही है। इसीलिये कृषि पर आधारित उद्योगों को राज्य सरकार ने थ्रस्ट सेक्टर में सबसे ऊपर रखा है। राज्य सरकार खाद्य प्र-संस्करण संयंत्र और वेयर हाऊसिंग के क्षेत्र में अधिक निवेश चाहती है। कोशिश यह है कि उद्योगपति खाद्य प्र-संस्करण इकाइयाँ उसी क्षेत्र में लगायें, जहाँ संबंधित उपज होती है। इससे उन्हें कच्चा माल आसानी से मिल सकेगा और उद्योगों के साथ-साथ किसानों को भी फायदा होगा।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com