ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
एनजीओ को भी बताना होगा हिसाब-किताब

MPNEWSLIVE : 28 अक्टूबर, 2014 

भोपाल ।।  गैर सरकारी संगठन [एनजीओ] को आमदनी, बोर्ड ऑफ डायरेक्टर सहित अन्य गतिविधियों को सार्वजनिक करना होगा। सूचना के अधिकार के तहत आवेदनों के जवाब भी देना होंगे। इसके लिए राज्य सूचना आयोग पूरे प्रदेश में मुहिम चलाकर सूचना का अधिकार कानून लागू करवा रहा है। दो-तीन सूचना आयुक्तों ने तो कमिश्नर और कलेक्टरों को नोटिस थमाकर एनजीओ का ब्यौरा मांग लिया है। प्रमुख सचिव, सामान्य प्रशासन को पत्र लिखकर एक्ट का पालन सुनिश्चित कराने के लिए कहा है।

शासन से अनुदान प्राप्त एनजीओ को आरटीआई के दायरे में शुमार करने के बाद भी इसका पालन नहीं हो रहा है। सूचना आयोग को भी इस पर शासन की ओर से कोई सूचना नहीं है। एक भी मामले में शिकायतकर्ता ने आयोग में अपील नहीं की। जिला कार्यालयों में ऐसे एनजीओ की सूची तक नहीं है जिन्हें शासन से अनुदान या अन्य प्रकार की सुविधाएं मिल रही हैं। सामान्य प्रशासन विभाग के 2009 के नियम के मुताबिक 50 हजार रपए से अधिक सालाना अनुदान प्राप्त करने वाली संस्थाओं को कानून के दायरे में लिया है। सरकार से रियायती दर पर भूमि प्राप्त करने वाली संस्थाएं भी नियमानुसार इसमें शुमार हैं।
सूचना का अधिकार आंदोलन के संयोजक अजय दुबे ने अपील दायर कर शिकायत की थी। इस पर सूचना आयुक्त गोपाल कृष्ण दण्डोतिया, हीरालाल त्रिवेदी और आत्मदीप ने कमिश्नर और कलेक्टरों को नोटिस जारी कर एनजीओ का ब्यौरा मांग लिया है।
ये मांगी जानकारी
सूत्रों के मुताबिक सूचना आयुक्तों ने कमिश्नर और कलेक्टरों से वित्तीय अनुदान की मात्रा, सूचना का अधिकार कानून के अंतर्गत की जाने वाले कार्यवाइयों के पालन और संस्था द्वारा सूचना का अधिकार कानून का पालन न किए जाने पर कार्रवाई को लेकर जानकारी मांगी गई है।
जीएडी को 20 नवंबर को बुलाया
मुख्य सूचना आयुक्त केडी खान के यहां इस मुद्दे पर शासन से जवाब तलब करने के लिए 20 तारीख को सामान्य प्रशासन विभाग के अफसरों को बुलाया गया है। दरअसल, विभाग को ही सुनिश्चित करना था कि शासन की ओर से जिन्हें अनुदान दिया जा रहा है उन संस्थाओं में आरटीआई का पालन हो रहा है या नहीं।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com