ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
वारेन एंडरसन की मौत पर भोपाल में मनाया गया जश्न

MPNEWSLIVE : 31 अक्टूबर, 2014 

भोपाल ।। हजारों भोपालवासियों को मौत की नींद सुला देने वाला यूनियन कार्बाइड का पूर्व प्रमुख वॉरेन एंडरसन बिना एक दिन भी सजा काटे इस दुनिया से विदा हो गया है। कई गैस पीड़ितों ने उसकी मौत पर खुशी जाहिर करते हुए जश्न मनाया तो अधिकतर ने एंडरसन को सजा नहीं दिला पाने के लिए भारत सरकार व सीबीआइ को जमकर कोसा।

पांच गैस संगठनों के समूह ने यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री के सामने प्रदर्शन कर अमेरिका और भारत सरकार को धिक्कारा। उन्होंने कहा कि 30 साल बाद भी गैस पीड़ित मर रहे हैं और उनका हत्यारा चैन की जिंदगी बसर करके चला गया है। उसे एक दिन भी सजा का सामना नहीं करना पड़ा।
गैस पीड़ितों की लड़ाई लड़ते आ रहे भोपाल गैस पीड़ित महिला उद्योग संगठन के संयोजक अब्दुल जब्बार ने कहा कि भारत सरकार ने कभी भी एंडरसन के प्रत्यर्पण की गंभीर कोशिश नहीं की। यही वजह रही कि वह अमेरिका में चैन की जिदंगी बसर करता रहा और गैस पीड़ित तिल-तिल कर मरते रहे। अगर भारत सरकार को गैस पीड़ितों की चिंता है तो उसे भोपाल कोर्ट द्वारा यूनाइटेड कार्बाइड के नए मालिक डॉव केमिकल्स के विरुद्ध वारंट तामील करवाना चाहिए।
10 की बजाय 40 टन के बना दिए थे टैंक
यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री कीटनाशक बनाने के लिए शुरू की गई थी। अमेरीका स्थित यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री में जहरीली गैसों के भंडारण के लिए केवल दस टन क्षमता वाले टैंक होते थे। लेकिन नियमों की अनदेखी कर उत्पादन बढ़ाने के लिए भोपाल स्थित फैक्ट्री में 40 टन क्षमता वाले टैंक बना दिए गए।
जानकारों का मानना है कि अगर 10 टन क्षमता वाले टैंक बनाए जाते तो दबाव कम रहता है, जिससे टैंक फटने जैसी घटना नहीं होती। अगर होती भी तो कम गैस होने के कारण नुकसान कम होता।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com