ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
देश के ग्रीन कॉरीडोर में मध्यप्रदेश शामिल, मिलेंगे 2100 करोड़

MPNEWSLIVE : 12 दिसम्बर, 2014 

भोपाल ।। मध्यप्रदेश को देश के ग्रीन कारीडोर में शामिल कर लिया गया है। प्रदेश में नवकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिये केन्द्र सरकार से 2100 करोड़ रूपये प्राप्त होंगे। प्रदेश में नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में हुई अभूतपूर्व प्रगति को देखते हुए 13वें वित्त आयोग की ओर से पुरस्कार स्वरूप करीब 225 करोड़ रूपये मिलेंगे।

यह जानकारी मंत्रालय में नवकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं और नीतियों के क्रियान्वयन की समीक्षा बैठक में दी गई। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने नवकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं को व्यवस्थित रूप से बढ़ावा देने के निर्देश देते हुए परियोजनाओं की लागत और भूमि की आवश्यकता जैसे मुद्दों पर चर्चा की।
 बैठक में बताया गया कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में 1 लाख 13 हजार करोड़ मूल्य की परियोजनाओं में प्रस्ताव मिले हैं। राष्ट्रीय कंपनियों एनटीपीसी, कोल इण्डिया, मॉइल, नाल्को ने भी परियोजनाओं के प्रस्ताव दिये हैं। वर्ष 2013-14 में सौर ऊर्जा 306 मेगावाट क्षमता बढ़ी जो देश में किसी भी राज्य में एक साल में बढ़ी अधिकतम क्षमता आंकी गई। रीवा, रामपुरा (नीमच), लातुर (शाजापुर) में अल्ट्रा मेगा सोलर संयंत्र के लिये सर्वाधिक उपयुक्त स्थल बताये गये हैं।
बैठक में बताया गया कि वर्ष 2012 से 2014 में सौर एवं पवन ऊर्जा की स्थापित क्षमता 227 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। नवकरणीय ऊर्जा में स्थापित क्षमता 992 मेगावाट हो गई है। वर्ष 2014 तक 1678 मेगावाट और वर्ष 2017 तक 5247 मेगावाट तक पहुंच जायेगी। पवन ऊर्जा की संभावनाएं बढ़ी हैं। वर्तमान में नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र की 7678 परियोजनाएँ स्थापना की प्रक्रिया में है।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com