ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
आरोप सिद्ध नहीं हुआ तो क्यों इस्तीफा दें राज्‍यपाल

MPNEWSLIVE : 19 फरवरी, 2015

भोपाल ।। व्यापमं घोटाले में चारों ओर से घिरने के बाद राज्यपाल पर संकट बढ़ता देख राज्य सरकार उनके बचाव में उतर आई है। विधानसभा के बजट सत्र में अभिभाषण समाप्त होने के बाद परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि राज्यपाल रामनरेश यादव के बेटे का नाम किसी आरोपी ने अपने बयान में लिया है, इससे कोई आरोप सिद्ध नहीं होता। जब तक राज्यपाल पर किसी तरह का कोई आरोप सिद्ध नहीं होता तब तक उनसे नैतिकता के नाम पर इस्तीफा भी मांगना गलत है।

नैतिक संकट तो है : गौर
गृह मंत्री बाबूलाल गौर ने माना कि राज्यपाल नैतिक संकट में तो घिर गए हैं, लेकिन इस्तीफे पर उन्होंने कहा कि यह उनकी व्यक्तिगत सोच है उन्हें इस्तीफा देना है या नहीं इस मामले में मैं कुछ नहीं बोलूंगा।
गिरेबान में झांके कांग्रेस : भार्गव
पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि यदि कांग्रेस राज्यपाल से नैतिकता के आधार पर इस्तीफा मांग रही है तो इस आधार पर कांग्रेस तो पूरी की पूरी साफ हो जाएगी। पहले वह अपने गिरेबान में झांके की वह कहां तक डूबे हुए हैं।
बेहद शरीफ हैं राज्यपाल : वियवर्गीय
नगरीय विकास एवं पर्यावरण मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि राज्यपाल बेहद शरीफ हैं, उन्हें झूठा फंसाया जा रहा है। ऐसे में इस्तीफे का तो सवाल ही नहीं उठता।
जांच के बाद ही सिद्ध होगा : गुप्‍ता
उच्च शिक्षा मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने राज्यपाल का बचाव करते हुए कहा कि राज्यपाल को इस्तीफा नहीं देना चाहिए, उनके बेटे का नाम केवल बयान में आया है। उसकी संलिप्तता कितनी है यह जांच के बाद ही सिद्ध होगा।
कुछ नहीं बोलना है
वन मंत्री गौरीशंकर शेजवार और संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इस मामले से कन्‍नी काटते हुए कहा कि राज्यपाल का संवैधानिक पद होता है इस मामले में वे कुछ नहीं बोलना चाहता। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने भी गुरुवार को राज्यपाल के पद को संवैधानिक बताते हुए कुछ भी बोलने से इंकार किया था।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com