ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
ट्रायबल आर्ट को बचाने आगे भोपाल आए देशभर के कलाकार

MPNEWSLIVE : 29 मार्च, 2015

भोपाल ।। देश में विलुप्त हो रही लोक कलाओं को बचाने अब कंटेम्परेरी आर्टिस्ट ने हाथ बढ़ाए हैं। मगर इनको मिलाने का जिम्मा संभाला है ललित कला अकादमी ने। अकादमी ने भोपाल में देश भर के ऐसे 82 आर्टिस्ट्स का कैंप लगाया है।

अपनी तरह का यह पहला कैंप है जहां ट्रायबल आर्ट को बचाने कंटेम्परेरी के साथ फ्यूजन किया जा रहा है। इसमें प्रत्येक कलाकार दो कृतियां तैयार करेगा जो ललित कला अकादमी की संपत्ति होगी । 25 मार्च से शुरू हुआ यह कैंप 5 अप्रैल तक चलेगा। इन कलाकृतियों की बाद में एक्जी बिशन लगाई जाएगी।
रिफ्लेक्शन ऑफ लाइफ, एन्वायरनमेंट उकेर रहे
भारत भवन और इंदिरा गांधी मानव संग्रहालय में चल रहे कैंप में सिरेमिक, ग्राफिक्स, मेटल और पेंटिंग आर्टिस्ट भागीदारी कर रहे हैं। हर कला में जिंदगी की परछाई और पर्यावरण की चिंता उभरकर सामने आ रही है। जम्मू से आए केके गांधी की पेंटिंग में लोक जीवन झांकता है। घाटी की हरी-भरी वादियों में विचरण करतीं भेड़ें सहज ही आपको अपनी और आकर्षित कर लेती हैं ।
झारखंड के हरेन ठाकुर भी अपनी पेंटिंग में इस बात का खास ख्याल रखते हैं कि वे झारखंड के लोक जीवन से दुनिया को रूबरू करा सकें । हिमाचल प्रदेश से पहली बार भोपाल आये हिम चटर्जी की कृति पर्यावरण की चिंता लिए दुनिया को बचाने को प्रेरित करती है। केरला की निम्मी यहां चटख रंगो से पर्यावरण को दर्शा रही हैं ।
भोपाल के राजा भोज की प्रतिमा की पेंटिंग बनाने वाले भुवनेश्वर के मानस जना कृति इंतजार बना रहे हैं । वहीं दिल्ली के नवाकाश ने बड़ी झील के टापू को ही नए अंदाज में पेश किया है । केरल के कलाधा केशरी ने अपने आर्ट द विनिंग एज में रिफ्लेक्शन ऑफ लाइफ और एन्वायरनमेंट को संजोया है। सिरेमिक आर्टिस्ट राजस्थान के विपुल कुमार ने प्रकृति और अपने अंदर की उथल-पुथल को एक बाम्बी के रूप में दर्शाया है ।
झारखंड से सिरेमिक कलाकार दिलीप कुमार ने धरती के क्षरण पर चिंता जताने वाला स्कप्लचर तैयार किया है । ग्राफिक्स विभाग में ट्रायबल आर्टिस्ट गंगुबाई भील आर्ट को संजो रही हैं तो सरगुजा की सफियाना पावले गोदना को मेटल पर उकेर रही हैं ।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com