ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
मौसम के बदले मिजाज से हैरत, फसलें चौपट, बीमारियां बढ़ी

MPNEWSLIVE : 30 मार्च, 2015

भोपाल ।। पिछले दो-तीन वर्ष से मध्यप्रदेश में मौसम के मिजाज कुछ बदले-बदले से नजर आ रहे हैं। विशेषकर फरवरी-मार्च में हो रही बेमौसम बरसात को लेकर लोग ताज्जुब में हैं। आपको सुनने में भले अटपटा लगे, लेकिन मौसम विज्ञानी इसकी वजह दक्षिण भारत में इस समय शुरू हुई प्री-मानसून एक्टिविटी को बता रहे हैं। साथ ही सिलसिलेवार आ रहे वेस्टर्न डिस्टर्वेंस(डब्ल्यूडी) भी मौसम का मिजाज बिगाड़ने में शामिल हैं।

अमूमन जनवरी-फरवरी में मावठे की एक-दो बौछारें पड़ने के बाद मौसम शुष्क हो जाता था। मार्च के शुरू होते ही गर्मी अपने शबाब पर आने लगती थी। लेकिन इस बार जनवरी, फरवरी, मार्च में पानी बरसने के साथ ही अप्रेल में भी बरसात के आसार बन रहे हैं। इससे जहां फसलें चौपट हो रही हैं, वहीं बीमारियों में भी इजाफा हो रहा है।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com