ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
राज्‍यपाल के मामले में बदला एसआईटी का फोकस

MPNEWSLIVE : 1 जुलाई, 2015

भोपाल ।।व्यापमं प्रकरण में राज्यपाल और उनके परिजनों की भूमिका पर कार्रवाई शुरू करने का साहस दिखाने के बाद एसआईटी और एसटीएफ के तेवर अब ढीले पड़ने लगे हैं। राज्यपाल व उनके पुत्र पर एफआईआर दर्ज करने के लिए हाइकोर्ट का दरवाजा खटखटाने वाली एसआईटी अब राज्यपाल की कथित संलिप्तता को लेकर अदालत में अपील आदि और जांच आगे बढ़ाने के मामले में मौन हो गई है। जानकारों का मानना है कि हाइकोर्ट द्वारा राज्यपाल के खिलाफ दर्ज एफआईआर को निरस्त करने के बाद इस मामले को छूने से गुरेज किया जा रहा है।

गौरतलब है कि राज्यपाल रामनरेश यादव व उनके पुत्र शैलेष व कमलेश के खिलाफ एसटीएफ ने तीन महीने पहले प्रकरण कायम किया था, वहीं राज्यपाल के ओएसडी धनराज यादव इसी प्रकरण के चलते जेल में हैं। सूत्रों का कहना है कि हाइकोर्ट में राज्यपाल यादव की याचिका पर एफआईआर निरस्त करने का फैसला आने और उनके पुत्र शैलेष की लखनऊ में संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के बाद एसटीएफ का 'फोकस" बदल गया है। इसे कतिपय दबाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है, जबकि एसआईटी ने ही हाइकोर्ट को बंद लिफाफा सौंपकर व्यापमं में यादव समेत अन्य लोगों के खिलाफ प्रमाण का दावा किया था।
माना जा रहा है कि यादव के प्रति सरकार की 'सहानुभूति" भी इस गतिरोध की वजह बन रही है। खास बात यह है कि हाइकोर्ट के आदेश में एफआईआर निरस्त करने की बात तो थी, लेकिन जांच से मना नहीं किया गया था। फिलहाल महामहिम से बयान लेने, पुनर्विचार याचिका दायर करने या सुप्रीम कोर्ट में अपील करने से परहेज किया जा रहा है। एसटीएफ के कामकाज पर नजर रखने के लिए गठित एसआईटी की ओर से भी इस संबंध्ा में निर्देश नहीं दिए गए हैं। एसआईटी के अध्यक्ष जस्टिस चंद्रेष भूषण का कहना है कि राज्यपाल यादव के प्रकरण में कार्रवाई करने और अपील करने या नहीं करने का निर्णय एसआईटी का नहीं बल्कि एसटीएफ का होगा, क्योंकि जांच एजेंसी वही है।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com