ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
पद से हटते ही राज्यपाल के खिलाफ कार्रवाई तय : एसआईटी

MPNEWSLIVE : 4 जुलाई, 2015

भोपाल ।।'राज्यपाल रामनरेश यादव का नाम अभी भले ही जबलपुर हाईकोर्ट ने हटवा दिया हो, लेकिन यादव पर कार्रवाई पद से हटने के बाद हो जाएगी। यादव के खिलाफ हमारे पास पुख्ता सबूत थे, इसी आधार पर हमने उन्हें व्यापमं घोटाले में आरोपी बनाने के लिए लिखा था।'

 
यह बात एसआईटी चेयरमैन जस्टिस चंद्रेश भूषण ने शुक्रवार को मीडिया से चर्चा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट ने भी अपने आदेश में यह कहा है कि यादव से फिलहाल पूछताछ तो की जा सकती है, लेकिन उनके खिलाफ कोई कानूनी कार्रवाई पद पर रहते हुए नहीं की जा सकती। जब वे अपना कार्यकाल पूरा करेंगे, तब एसटीएफ चाहे तो उनके खिलाफ विधि सम्मत कार्रवाई कर सकती है।
जस्टिस भूषण के मुताबिक वैसे भी भारतीय संविधान के मुताबिक पद पर रहते हुए किसी राज्यपाल को न तो गिरफ्तार किया जा सकता है और न ही उनके खिलाफ चालान पेश किया जा सकता है। हाईकोर्ट के निर्णय के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील करने की बात पर जस्टिस भूषण ने कहा है कि अपील करना या करवाना उनका काम नहीं है।
अब यह सरकार को तय करना है कि वह हाईकोर्ट के निर्णय के खिलाफ अपील करती है या नहीं। एसटीएफ द्वारा हाईकोर्ट से पेन ड्राइव मांगे जाने के मामले में उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टया मिस्टर एक्स द्वारा दी गई जानकारी गलत निकली है, इसलिए हो सकता है कि एसटीएफ संबंधित व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करना चाह रही हो।
गौरतलब है कि राज्यपाल यादव पर पांच उम्मीदवारों को वन रक्षक भर्ती परीक्षा में फर्जी तरीके से पास करने के आरोप लगने पर एसआईटी ने समीक्षा की थी। एसआईटी ने समीक्षा के आधार पर राज्यपाल के खिलाफ एफआईआर करने की अनुशंसा जबलपुर हाईकोर्ट से की थी। लेकिन राज्यपाल यादव की याचिका पर हाईकोर्ट ने हस्तक्षेप करते हुए यादव का नाम एफआईआर से हटवा दिया था।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com