ताज़ा समाचार   उच्च शिक्षा मंत्री द्वारा एक्यूप्रेशर पार्क के विकास कार्यों का भूमि-पूजन                युवा बढ़े सपने देखें और समृद्ध देश के निर्माण में सहयोग करें                ग्वालियर में भी चलेगी मेट्रो..                रबी सीजन में ट्रांसफार्मर प्रबंधन पर विशेष जोर                अनुसूचित जाति विद्यार्थियों के छात्रावासों में 10 हजार सीट की वृद्धि                श्रम कानूनों को सरल बनाने मंत्रि-परिषद् द्वारा बड़े संशोधनों को मंजूरी                उद्योग संवर्धन नीति-2014 का अनुमोदन                प्रदेश के 212 विकासखण्ड में द्वार-प्रदाय योजना                6 दिसंबर 2014 को सभी स्तर के न्यायालय में नेशनल एवं मेगा लोक अदालत                मध्यप्रदेश दिवस समारोह में "स्वच्छ मध्यप्रदेश" होगी मुख्य थीम                    
डायरेक्टर मेडिकोलीगल डॉ बड़कुर से भी पूछताछ करेगी सीबीआई

MPNEWSLIVE :28 जुलाई, 2015

भोपाल ।। व्यापमं घोटाले और नम्रता डामोर की हत्या का कनेक्शन तलाशने में जुटी सीबीआई की टीम उसके परिजनों से पूछताछ के बाद संबंधित थाना स्टाफ से सवाल-जवाब करेगी। पोस्टमार्टम करने वाले डाक्टरों की टीम के साथ भोपाल मेडिकोलीगल इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर डॉ डीएस बड़कुर से भी पूछताछ होगी। पोस्टमार्टम उज्जैन के तीन डॉक्टरों की पैनल डॉ बीबी पुरोहित, डॉ ओपी गुप्ता एवं डॉ अनीता जोशी ने किया था। नम्रता के पिता से मिले सुराग की भी पड़ताल की जा रही है। 

किस आधार पर बताई थी आत्महत्या
डॉ बड़कुर ने अपनी विशेषज्ञ रिपोर्ट में आत्महत्या की आशंका जताई थी। अब सीबीआई उनसे इस आशंका का आधार जानना चाहेगी। वैसे उनकी रिपोर्ट पर नम्रता के परिजनों सहित अन्य लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया की थी। सीबीआई कायथा (उज्जैन) पुलिस की विवेचना, केस डायरी का परीक्षण एवं घटना से जुड़े अन्य साक्ष्यों को एकत्र कर डॉ. बड़कुर व अन्य डॉक्टरों से सवाल किए जाएंगे। 
डॉ बड़कुर के तीन गलत अनुमान
-नम्रता की मौत को आत्महत्या बताया था। बाद में इसमें हत्या का मामला दर्ज किया गया।
-बहुचर्चित शहला मसूद मर्डर में अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट में शहला द्वारा खुदकुशी की आशंका जताई, बाद में ये हत्या का मामला निकला।
-भोपाल के अशोका गार्डन इलाके में संजय पाटिल की चाकू लगने से हुई मौत को भी हत्या का मामला बताया, बाद में आत्महत्या साबित हुई।
डॉक्टरों को सही साबित करनी होगी रिपोर्ट
दस्तावेजों के आधार पर अदालतें फैसले करती हैं। इसलिए इस मामले में उज्जैन के डॉक्टरों की पैनल और डॉ बड़कुर को अपनी रिपोर्ट को साबित करने के आधार और तर्क देने होंगे। दोनों पक्ष अपनी बात मजबूती से रखेंगे। छानबीन के बाद किसी भी पक्ष का मामला कमजोर पाया जाता है तो उसके खिलाफ भी मामला दर्ज हो सकता है। 
-डॉ डीके सत्पथी, फारेंसिक विशेषज्ञ व पूर्व डायरेक्टर, मेडिकोलीगल इंस्टीट्यूट 
कौन हैं डॉ बड़कुर
मेडिकोलीगल इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर डॉ बड़कुर पैथोलॉजी में एमडी एवं फारेंसिक साइंस में डिप्लोमाधारी हैं। उनकी पत्नी डॉ प्रभा बड़कुर भी इंस्टीट्यूट में मेडिकल आफिसर हैं। मप्र व्यापमं के चेयरमैन वरिष्ठ आईएएस एमएम उपाध्याय के बहनोई डॉ बड़कुर जून 2016 में रिटायर होंगे। सेवानिवृति की उम्र 65 साल किए जाने का पहला लाभ डॉ बड़कुर को ही मिला था।
नो कमेट्स: डॉ बड़कुर
डॉ बड़कुर से जब इस मुद्दे पर बात की गई तो उनका कहना था मैं इस बारे में कुछ नहीं बोलूंगा, नो कमेंट्स।

 
बड़ी खबरें (Breaking News)
आगे पढें...
 
एम. पी. राग ब्लॉग
Rajesh Dubey
ब्लॉग के लिए यहां क्लिक करें
 
फोटो गेलरी
More
 
वीडियो गेलरी
More
 
राशिफल
 Aries / मेष राशि
 
Opinion Poll
Q.
Yes No Don't Say
Previous Poll
Q.
Yes :  |  No :  |  Don't Say :
 
Advertisment


 
 
you can ad here ......
 
संपर्क करें      मुख्य सवाल जवाब      आपके सुझाव      संस्थान    
Copyright © 2013-14 www.mpnewslive.com